‘वो काम कोहली के अलावा कोई नहीं कर सकता’, विराट कोहली के छक्के को याद कर हारिस रऊफ ने कही ऐसी बात जीता करोड़ों भारतीयों का दिल

‘वो काम कोहली के अलावा कोई नहीं कर सकता’, विराट कोहली के छक्के को याद कर हारिस रऊफ ने कही ऐसी बात जीता करोड़ों भारतीयों का दिल

ऑस्ट्रेलिया में खेले गए टी-20 वर्ल्ड कप 2022 की ट्रॉफी भले ही इंग्लैंड ने अपने नाम की हो, परंतु 23 अक्टूबर को भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया हाई वोल्टेज मैच सभी क्रिकेटर्स और फैंस के बीच हमेशा ताजा रहेगा।

भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया मुकाबला 23 अक्टूबर को खेला गया था यह मैच काफी रोमांचक था। इस मैच ने सभी की धड़कने रोक के रख दी थी। इस मुकाबले में खेली गई विराट कोहली की नाबाद पारी सभी को हमेशा याद रहेगी।

बैक टू बैक जड़े थे 2 गगनचुंबी छक्के: इस मुकाबले में भारतीय टीम के विस्फोटक बल्लेबाज विराट कोहली ने पाकिस्तान के तेज गेंदबाजों के छक्के छुड़ाए थे। इस मुकाबले में भारत की जीत का श्रेय विराट कोहली को जाता है। इस मैच में उन्होंने अपनी विस्फोटक पारी की बदौलत भारतीय टीम को 4 विकेट से मैच जिताया था।

जब भारतीय टीम के जीतने की उम्मीद ना के बराबर थी तब विराट कोहली ने पाकिस्तान के तेज गेंदबाज हरीश रऊफ के आखिरी ओवर की 2 गेंदों पर बैक टू बैक 2 गगनचुंबी छक्के जड़े थे। उन छक्कों को याद करते हुए हरीश रऊफ ने एक बड़ा बयान दिया है।

विराट कोहली के छक्कों पर कही ये बात: हारिश रऊफ विराट कोहली द्वारा छोड़े गए और छक्कों को याद करते हुए कहते हैं कि, ”

जिस तरह से कोहली विश्व कप में खेले, वह उनका क्लास है। हम सभी जानते हैं कि वह किस प्रकार के शॉट खेलते है। जिस तरह से वह उन छक्कों को मारते हैं, मुझे नहीं लगता कि कोई अनुय् खिलाड़ी इस तरह का शॉट मार सकता है। ‘देखिए भारत को आखिरी 12 गेंदों में 31 रनों की जरूरत थी। मैंने चार गेंदों पर केवल तीन रन दिए थे। मुझे पता था कि नवाज आखिरी ओवर फेंक रहे थे, वह एक स्पिनर हैं और मैंने उनके लिए कम से कम चार बाउंड्री छोड़ने की कोशिश की थी और 20 से ज्यादा रन उनके लिए छोड़ना चाहता था। अंतिम आठ गेंदों में 28 रन चाहिए थे, मैंने तीन धीमी गेंद फेंकी और वह धोखा खा गया। मैंने चार में से केवल एक तेज गेंद फेंकी थी। क्योंकि मैदान की किनारे वाली बाउंड्री बड़ी थीं।”

उन्हों आगे कहा कि,: “मैं सिडनी में ग्रेड एक क्लब क्रिकेट खेल रहा था और मैंने भारतीय टीम को गेंदबाजी की थी। विराट कोहली, केएल राहुल, रवि शास्त्री, उन्होंने हमेशा मुझसे बहुत गर्मजोशी से मुलाकात की। वास्तव में, विश्व कप के दौरान रवि शास्त्री ने मुझसे कहा था कि वह मेरी सफलता और बदलाव को देखकर बहुत खुश हुए। कोहली ने भी काफी सराहना की। उन्होंने मुझसे कहा कि तुमने हमारे नेट्स पर गेंदबाजी की और अब यह देखक अच्छा लगा कि तुम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन करते हो।”

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *