बांग्लादेश दौरे पर मौजूद ऋषभ पंत पर टूटा मुसीबतों का पहाड़, सरकार ने जमीन कब्जा हटाने के लिए लिया एक्शन

बांग्लादेश दौरे पर मौजूद ऋषभ पंत पर टूटा मुसीबतों का पहाड़, सरकार ने जमीन कब्जा हटाने के लिए लिया एक्शन

भारतीय टीम के सबसे युवा खिलाड़ी ऋषभ पंत (Rishabh Pant) अपनी विस्फोट बल्लेबाजी की वजह से सुर्खियों में बने रहते हैं. लेकिन इस बार लाइमलाइट में आने की वजह उनकी बल्लेबाजी या खराब फॉर्म नहीं. बल्कि उनका घर हैं. जी हां उत्तराखंड (Uttarakhand) के रुड़की (Roorkee) में रेलवे अपनी जमीन को कब्जे से मुक्त कराने की मुहिम में जुटा हुआ है. जिसकी चपेट में भारतीय खिलाड़ी का घर भी आ गया है.

Rishabh Pant के घर आगे रेलवे प्रशासन ने लगाया पिलर: भारत में अतिक्रमण की समस्या किसी एक प्रदेश की नहीं है. यह समस्या पूरे भारत में तों की ज्यों बनी हुई. जिसके लिए राज्य सरकारे समय-समय पर कार्रवाई करती रहती है. वहीं इसी कड़ी में उत्तराखंड (Uttarakhand) के रुड़की (Roorkee) में रेलवे अपनी जमीन को कब्जे से मुक्त कराने की मुहिम में जुटा हुआ है.

वह घरों के सामने पिलर लगा रही है. जिसकी घर के आगे बढने वाले अंतिक्रमण पर काबू पाया जा सके. वहीं जिन घरों के बाहर पिलर गाड़ी गई है उनमें भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य ऋषभ पंत (Rishabh Pant) का घर भी शामिल है. हालांकि प्रशासन को एक नेशनल खिलाड़ी के साथ इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए. क्योंकि पंत खुद उत्तराखंड के ब्रैंड एम्बेसेडर जो लोगों को जागरूक करने कामा करते हैं.

ब्रैंड एम्बेसडर है ऋषभ पंत: टीम इंडिया के युवा खिलाड़ी ऋषभ पंत (Rishabh Pant) कुछ महीने पहले ही उत्तराखंड सरकार ने ब्रैंड एम्बेसेडर घोषित किया था. इस बात की जानकारी खुद सीएम पुष्कर सिंह धामी ने ट्वीट कर जानकारी दी थी.

राज्य में युवाओं को खेलकूद और जन-स्वास्थ्य की तरफ प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से ऋषभ पंत को ब्रैंड एम्बेसेडर की उपाधी दी गई थी ऐसे में रेलवे की कार्रवाई से प्रशासन पर सवाल उठने लगे हैं.

क्या उन्हें टीम इंडिया के खिलाड़ी के घर के बाहर रेलवे प्रशासन को पिलर लगाना चाहिए था या नहीं? हालांकि इस घटना पर पंत या उनके परिवार का कोई रिएक्शन सामने नहीं आया है.

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *