‘मेरी, कोहली और पुजारा की Average इंडियन पिचों की वजह से नीचे गिरी’- अजिंक्य रहाणे

‘मेरी, कोहली और पुजारा की Average इंडियन पिचों की वजह से नीचे गिरी’- अजिंक्य रहाणे

दो साल पहले भारत को ऑस्ट्रेलिया में 2-1 से ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीत दिलाने के बाद अजिंक्य रहाणे देश के हीरो बन गए थे लेकिन उस सीरीज के बाद 13 टेस्ट मैच खेलने के बाद उनके नाम पर सिर्फ तीन अर्धशतक ही दर्ज हुए जिसके चलते उन्होंने भारतीय टीम से अपना स्थान खो दिया। हालांकि, टीम इंडिया से बाहर होने के बाद रहाणे एक बार फिर से सुर्खियों में लौट आए हैं। बुधवार को, उन्होंने हैदराबाद के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान मुंबई के लिए दोहरा शतक लगा दिया, उनके इस दोहरे शतक के बाद उन्होंने एक बार फिर से चयनकर्ताओं को याद दिला दिया है कि वो अभी खत्म नहीं हुए हैं।

हैदराबाद के खिलाफ दोहरा शतक लगाने के बाद रहाणे ने एक बयान दिया है जो टॉक ऑफ द टाउन बना हुआ है। रहाणे ने अपने सनसनीखेज बयान में कहा है कि उनकी, विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा की औसत पिछले 2-3 साल में भारतीय पिचों की वजह से नीचे गिरी। उनके इस बयान ने सोशल मीडिया पर रिएक्शंस की बाढ़ ला दी है।

रहाणे ने कहा, “मैं किसी को कुछ भी साबित नहीं करना चाहता। मुझे लगता है कि मेरी प्रतिस्पर्धा खुद से है। अगर मैं उस पर टिका रहूं तो चीजें ठीक हो जाएंगी। मैं किसी चीज के पीछे नहीं भागना चाहता, बस अपने खेल का समर्थन करना चाहता हूं। निराश होने का कोई मतलब नहीं है क्योंकि चीजें मेरे नियंत्रण में नहीं हैं। मेरे लिए मेरा नजरिया सबसे ज्यादा मायने रखता है। अपने व्यवहार और अपने काम के प्रति नैतिकता के कारण, मैं अपने जीवन के इस मुकाम तक पहुंचने में कामयाब रहा हूं और अब मैं कुछ भी बदलना नहीं चाहता हूं।”

आगे बोलते हुए रहाणे ने कहा, “इसके अलावा, मैं अपना कोई भी पुराना वीडियो नहीं देखता। इसके अलावा, आपके पास हमेशा अच्छी चीजें होती हैं जो आपने की हैं।पिछले कुछ वर्षों में खेल में बदलाव आया है। मुझे लगता है कि ये बदलाव अच्छे के लिए हैं क्योंकि हम अलग-अलग देशों में मैच खेलते हैं। लेकिन अगर मुझे लगातार रन बनाने हैं तो मैंने सोचा कि मैं पुराने अजिंक्य की बल्लेबाजी का जिक्र करूंगा और इसे अपनाने की कोशिश करूंगा।”

 

अपने बयान के आखिर में रहाणे ने गिरती हुई औसत के बारे में बात की और कहा, “अगर हम औसत देखें तो वो विकेट की वजह से नीचे गए हैं, क्योंकि एक बल्लेबाज के तौर पर ये हमेशा चुनौतीपूर्ण होता है। सलामी बल्लेबाजों के लिए ये आसान होता है, खासकर भारत में जब गेंद सख्त होती है। जब बल्लेबाज आउट होते हैं तो हम हमेशा सोचते हैं कि वो क्या गलतियां कर रहे हैं। लेकिन फिर नंबर 3-4-5- पुजारा, विराट और मैं, हमारे सभी के औसत नीचे चले गए। इसलिए, मुझे नहीं लगता कि मैं कोई गलती कर रहा था। हां, एक खिलाड़ी के रूप में मैं हमेशा इस बात पर ध्यान देता हूं कि कहां सुधार करना है लेकिन हर बार हम गलतियां नहीं करते हैं, कभी-कभी विकेट ऐसे होते हैं, ये बहाना नहीं बल्कि हकीकत है। हर कोई देख रहा था इसलिए उन्हें पता है कि भारत में किस तरह के विकेट तैयार किए गए थे।”

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *