इस जगह होते है सोये हुए शिवलिंग के दर्शन, जानें 800 साल पुराने मंदिर के इतिहास के बारे में

इस जगह होते है सोये हुए शिवलिंग के दर्शन, जानें 800 साल पुराने मंदिर के इतिहास के बारे में

यह ताड़केश्वर महादेव के मंदिर के रूप में प्रसिद्ध है क्योंकि सूर्य की किरणें लगातार शिवलिंग पर पड़ती हैं। मंदिर की ख़ासियत यह है कि मंदिर के ऊपर छत नहीं है और सूर्य की किरणें शिवलिंग पर पड़ती हैं। जिस कारण सूर्य की किरणें लगातार शिवलिंग को छूती हैं, यह ताड़केश्वर महादेव के मंदिर के रूप में प्रसिद्ध है। 1994 में पुनर्निर्मित, 20 फुट-गोल गुंबद खोला गया था। स्वतः प्रज्ज्वलित शिवलिंग को देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ती है। श्रावणमास और महाशिवरात्रि पर दादा के दर्शन के लिए दूर-दूर से भक्त आते हैं।

तड़केश्वर महादेव का अति प्राचीन शिवालय वलसाड के उपनगरीय इलाके में अब्रामा गांव में वंकी नदी के तट पर स्थित है। लगभग 800 वर्ष पुरानी इस शिवालय की पौराणिक कथा अनुपम और अलौकिक है। बरसों पहले यहां के जंगल में गाय चराने वाला एक मासूम चरवाहा एक गाय को अपने आप उसके दूध की धारा को बहता देख चकित रह गया था। ग्रामीणों को सूचना दी तो उन्होंने जगह का निरीक्षण करते हुए पत्थर की एक बड़ी पटिया देखी। तब से एक भक्त प्रतिदिन इस शिला पर आकर उसका दूध से अभिषेक करता था। भोले शिवाजी ने स्वप्न में उससे कहा, “तुम प्रतिदिन इस घातक वन में आकर मेरी पूजा करते हो। मैं तुम्हारी भक्ति और अद्वितीय भक्ति से प्रसन्न हूं।” अब मुझे इस कीचड़ से निकालकर उचित स्थान पर ले जाकर मेरी उपासना करो। भक्तों की भावनाओं का सम्मान करते हुए ग्रामीणों ने चट्टान के चारों ओर खुदाई की और उन्हें आश्चर्य हुआ कि उन्हें शिव के आकार का 6 से 7 फीट लंबा लिंग दिखाई दिया। उत्खनन बहुत सावधानी से किया गया था ताकि लिंग टूट न जाए। शीला को बैलगाड़ी में लाकर आज के स्थान पर पूज्यनीय माना जाता था।

शिवलिंग की रक्षा के लिए एक अस्थायी दीवार और एक फूस की छत बनाई गई थी। लेकिन कुछ ही दिनों में छत अचानक जलकर खाक हो गई। बाद में एक ट्यूबलर छत बनाई गई जो तूफान से उड़ गई थी। इस बार-बार होने वाली घटना के बाद शिव भक्त को स्वप्न आया कि ‘मैं ताड़केश्वर हूं’, मेरे सिर पर छत बनाने की कोशिश मत करो। ग्रामीणों भक्तो ने शिवलिंग के चारों ओर एक दीवार बनाई और एक दरवाजा बनाया लेकिन इसे ऊपर से खुला रखा।

तड़केश्वर महादेव के मंदिर में हर श्रावण मास के दौरान भक्तों की भारी भीड़ रहती है। श्रावण के चार सोमवार को 10 हजार से अधिक शिव भक्त भोलेनाथ के दर्शन के लिए आते हैं। ताड़केश्वर दादा के दर्शन करने के लिए विदेश में बसे भारतीय अचुक दर्शन का लाभ उठाते हैं। श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को ताड़केश्वर महादेव मंदिर में विशाल मेला लगता है। जिसमें लग्जरी बसों के साथ-साथ निजी वाहनों में भी दूर-दूर से लोग आते हैं। चूंकि दादा की महिमा अपरंपार है और भक्तों में आस्था है, इसलिए बड़ी संख्या में भक्त उनके पास आते हैं।

यहां कल्याण बाग, जलाराम मंदिर आदि दर्शनीय स्थल हैं। तीथल, एक लोकप्रिय समुद्र तट है, वलसाड से 5 किमी की दूरी पर स्थित है और परनेरा किला 3 किमी की दूरी पर स्थित है। देश के अन्य प्रमुख शहरों से वलसाड के लिए कोई नियमित उड़ानें नहीं हैं। निकटतम हवाई अड्डा सूरत हवाई अड्डा (एसटीवी) है जो 99 किमी दूर है और मुंबई हवाई अड्डा (बीओएम) लगभग 186 किमी दूर है। वलसाड रेलवे स्टेशन मुख्य रेलवे स्टेशन है, और इस शहर को अन्य प्रमुख शहरों से जोड़ता है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *