Team India ODI World Cup: कप्तान, ओपनर, विकेटकीपर…पूरी टीम पर कन्फ्यूजन! 10 महीने में कैसे जीतेंगे वनडे वर्ल्ड कप?

Team India ODI World Cup: कप्तान, ओपनर, विकेटकीपर…पूरी टीम पर कन्फ्यूजन! 10 महीने में कैसे जीतेंगे वनडे वर्ल्ड कप?

वनडे वर्ल्ड कप में अब एक साल से भी कम का वक्त बचा है, लेकिन टीम इंडिया रास्ते से भटकी हुई दिख रही है. अगर समय रहते तैयारियां शुरू नहीं की गईं तो एक बार फिर पिछले दो वर्ल्ड कप जैसी गलती हो सकती है.

टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के सेमीफाइनल में टीम इंडिया को 10 विकेट से हार मिली तो आईसीसी ट्रॉफी जीतने का इंतज़ार लंबा हो गया. भारत ने आखिरी बार कोई आईसीसी ट्रॉफी 2013 में जीती था, जब महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में भारत को चैम्पियंस ट्रॉफी मिली थी. टी-20 वर्ल्ड कप खत्म हुआ तो अब वनडे वर्ल्ड कप का काउंटडाउन शुरू हो गया. लेकिन टीम इंडिया इस वक्त जिन हालातों से गुज़र रही है, ऐसे में एक बार फिर वर्ल्ड कप की तैयारियों पर सवाल खड़े हो रहे हैं और फैन्स को चिंता है जब सिर्फ 10 महीने में ही वर्ल्ड कप होना है तब भारतीय टीम कैसे इतिहास रच पाएगी.

कप्तान से लेकर ओपनर तक पर कन्फ्यूजन: वनडे वर्ल्ड कप से पहले टीम इंडिया काफी वनडे मैच खेलेगी, लेकिन कोच राहुल द्रविड़ की अगुवाई में इतने प्रयोग हो रहे हैं कि अभी तय ही नहीं हो पा रहा है कि आखिर टीम इंडिया का कोर ग्रुप क्या होगा. कप्तान रोहित शर्मा, पूर्व कप्तान विराट कोहली, टीम के उप-कप्तान केएल राहुल जैसे सीनियर प्लेयर्स लगातार ब्रेक ले रहे हैं. सिर्फ बड़ी सीरीज़ में ही इन्हें देखा जाता है, ऐसे में फॉर्म में निरंतरता कैसे आएगी.

टी-20 वर्ल्ड कप में रोहित शर्मा कप्तान थे, न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज़ में हार्दिक पंड्या को कप्तानी मिली और वनडे सीरीज़ में शिखर धवन कप्तान बने. अब बांग्लादेश दौरा होगा तो फिर से रोहित शर्मा को कप्तानी मिल जाएगी. सीनियर प्लेयर्स को आराम मिलता है, तो प्लेइंग कॉम्बिनेशन भी बिगड़ रहा है.

वनडे में क्या रोहित शर्मा के साथ केएल राहुल ओपनिंग करेंगे या फिर शिखर धवन, अभी तक यह तय नहीं है. चिंता यह भी है कि पिछले कुछ वक्त से वनडे में ये खिलाड़ी साथ खेले ही नहीं, पिछली कुछ वनडे सीरीज में भारत की कप्तानी शिखर धवन ही करते दिखे और रोहित शर्मा आराम करते दिखे. ऐसे में रोहित-राहुल-धवन में से ओपनिंग जोड़ी या टॉप-3 चुनना एक बड़ा संकट है.

सिर्फ ओपनिंग जोड़ी ही नहीं बल्कि विकेटकीपर को लेकर भी चिंता बढ़ी है. ऋषभ पंत की व्हाइट बॉल क्रिकेट में खराब फॉर्म चिंता का विषय है, वह लगातार फेल हो रहे हैं और टीम उन्हें मौके भी दे रही है. इस चक्कर में संजू सैमसन, ईशान किशन या अन्य किसी खिलाड़ी को आजमाया नहीं जा रहा है. टेस्ट क्रिकेट में पंत मैच विनर बने हैं, लेकिन वनडे या टी-20 में अभी उन्हें खुद को साबित करना बाकी है.

10 महीने में कैसे जीतेंगे वर्ल्ड कप?वनडे वर्ल्ड कप 2023 में अब सिर्फ कुछ महीने बाकी हैं, अक्टूबर-नवंबर में भारत में ही वर्ल्ड कप होना है. सितंबर तक टीम की घोषणा कर दी जाएगी, लेकिन अभी टीम इंडिया के पास ऐसे 15 खिलाड़ियों का पूल ही पक्का नहीं है जो वर्ल्ड कप की तैयारियों में जुटा हो. यही कारण है कि टीम इंडिया को अब अपने 15 खिलाड़ी तय करने होंगे, ताकि वह लगातार तैयारियों में जुट सकें. वरना एक बार फिर टी-20 वर्ल्ड कप 2021, टी-20 वर्ल्ड कप 2022 जैसी गलतियां दोहराकर टीम इंडिया पर वर्ल्ड कप जीतने का मौका खोने का दबाव बना रहेगा.

कहां-कहां बढ़ रही है टीम इंडिया की चिंता? रोहित शर्मा ही वनडे वर्ल्ड कप में कप्तानी करेंगे यह तो तय है, लेकिन उनकी बल्लेबाजी फॉर्म टीम के लिए मुश्किल पैदा कर रही है. केएल राहुल का स्ट्राइक रेट चिंता बढ़ाता है, लेकिन उनकी वजह से शिखर धवन को मौका नहीं मिल रहा है. टी-20 में कमाल करने वाले सूर्यकुमार यादव को भी अभी वनडे में खुदको साबित करना है, श्रेयस अय्यर वनडे में लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं.

विकेटकीपिंग में ऋषभ पंत को फॉर्म में वापस आना होगा, वरना टीम मैनेजमेंट को संजू सैमसन के बारे में सोचना ही चाहिए. इनके अलावा रवींद्र जडेजा की वापसी, हार्दिक पंड्या की जगह भी लगभग पक्की है. हालांकि, स्पिन यूनिट में टीम इंडिया को युजवेंद्र चहल-रविचंद्रन अश्विन और कुलदीप यादव में से किसी का चयन करना होगा. क्योंकि तेज़ गेंदबाजी में जसप्रीत बुमराह, अर्शदीप सिंह और उमरान मलिक जैसे खिलाड़ी कमान संभाल सकते हैं.

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *