“T20 क्रिकेट में आगे बढ़ने का रास्ता नहीं है”, खिलाड़ियों में टी20 फॉर्मेट का क्रेज बढ़ते देख Virender Sehwag नहीं हैं खुश, दे दिया ऐसा बयान

“T20 क्रिकेट में आगे बढ़ने का रास्ता नहीं है”, खिलाड़ियों में टी20 फॉर्मेट का क्रेज बढ़ते देख Virender Sehwag नहीं हैं खुश, दे दिया ऐसा बयान

Virender Sehwag: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज सलामी बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद भी अक्सर चर्चा में बने रहते हैं. इसकी मुख्य वजह यह है कि वो आए दिन क्रिकेट से जुड़े मामलों पर अपनी राय देते रहते हैं. इतना ही नहीं बल्कि वीरू क्रिकेटर्स को लेकर भी प्रतिक्रिया देते हुए नज़र आते हैं. वहीं अब सहवाग (Virender Sehwag) अब एक बार फिर सुर्ख़ियों में हैं. इस बार उन्होंने क्रिकेट के तीनों प्रारूपों को लेकर बड़ा बयान दिया है.

Virender Sehwag ने T20 को लेकर दिया बड़ा बयान: पूर्व दिग्गज भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने क्रिकेट के तीनों प्रारूपों को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. उनका मानना है कि T20 के ज़रिए क्रिकेट आगे नहीं बढ़ सकता. लेकिन वनडे और टेस्ट खेलने से इसमें सफलता हासिल होगी. इतना ही नहीं उनका यह भी कहना है कि आईसीसी इस बात को सुनिश्चित करता है कि हर देश टेस्ट और वनडे क्रिकेट खेले. इस बारे में बात करते हुए सहवाग (Virender Sehwag) ने कहा,

“टी20 आगे बढ़ने का रास्ता नहीं है. टेस्ट और वनडे बने रहेंगे क्योंकि आईसीसी सुनिश्चित करता है कि देश उन्हें खेलें ताकि वह वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप और वनडे विश्व कप का आयोजन कर सकें. टेस्ट क्रिकेट और वनडे इसका हिस्सा है कि खेल कैसे आगे बढ़ता है.”

पिछले कुछ समय से T20 क्रिकेट पर दिया जा रहा है ज़ोर: आपको बता दें कि पिछले कुछ समय से क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट T20 पर काफी ज़्यादा ज़ोर दिया जा रहा है. हर देश के खिलाड़ी T20 क्रिकेट में हिस्सा ले रहे हैं. इतना ही नहीं बल्कि अब आईपीएल की तर्ज पर दक्षिण अफ्रीका में भी T20 लीग शुरू होने जा रही है. ऐसे में अब हर बोर्ड के पास अपनी-अपनी डोमेस्टिक T20 लीग है.

इन टूर्नामेंट्स में दुनियाभर के खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं. जिसका असर वनडे और टेस्ट क्रिकेट पर भी पड़ रहा है. क्योंकि ज्यादातर खिलाड़ी सीरीज छोड़ इन लीग में हिस्सा ले रहे हैं. इसके चलते इंटरनेशनल क्रिकेट पर काफी ज्यादा असर पड़ रहा है. कहीं ना कहीं लगातार क्रिकेट खेलने से पहले के मुताबिक खिलाड़ियों के चोटिल होने की संख्या बढ़ गई है और वो अपने देश का प्रतिनिधित्व करने से भी चूक रहे हैं. ऐसे में अगर वीरेंद्र सहवाग के बयान पर गौर किया जाए तो वो इस मामले में सही नजर आ रहे हैं.

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *